NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ

NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant
UP Board Solution for Class 8 Hindi

NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ


प्रिय छात्रों, यहां पर हमने NCERT कक्षा 8 की हिन्दी वसंत का हल उपलब्ध करा दिया हैं ।। यह solutions स्टूडेंट के लिए परीक्षा में बहुत सहायक होगा |NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ pdf Download कैसे करे| NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ solution will help you. NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ pdf download, NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter All Chapter.

NCERT कक्षा 8 Hindi Vasant के सभी पाठ के सभी प्रश्नों के उत्तर को विस्तार से समझाया गया है जिससे सभी छात्र सभी उत्तरों को आसानी से समझ सके | सभी प्रश्न उत्तर Latest NCERT syllabus के आधार पर उपलब्ध कराए गए है | यह सोलूशन सभी स्टूडेंट्स को ध्यान में रख कर तैयार किए गए है |

NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ

सारे गाँव में बदलू मुझे सबसे अच्छा आदमी लगता था क्योंकि वह मुझे सुंदर-सुंदर लाख की गोलियाँ बनाकर देता था ।। मुझे अपने मामा के गाँव जाने का सबसे बड़ा चाव यही था कि जब मैं वहाँ से लौटता था तो मेरे पास ढेर सारी गोलियाँ होती, रंग-बिरंगी गोलियाँ जो किसी भी बच्चे का मन मोह लें ।।

वैसे तो मेरे मामा के गाँव का होने के कारण मुझे बदलू को ‘बदलू मामा’ कहना चाहिए था परंतु उसे ‘बदलू मामा’ न कहकर बदलू काका कहा करता था जैसा कि गाँव के सभी बच्चे उसे कहा करत थे ।। बदलू का मकान कुछ ऊँचे पर बना था ।। मकान के सामने बड़ा सा सहन था जिसमें एक पुराना नीम का वृक्ष लगा था ।। उसी के नीचे बैठकर बदलू अपना काम किया करता था ।। बगल में भी बहकती रहती जिसमें वह लाख पिचलाया करता ।। सामने एक लकड़ी की चौराट पड़ी रहती जिस पर लाख के मुलायम होने पर वह उसे सलाख के समान पतला करके चूड़ी का आकार देता ।। पास में चार-छह विभिन्न आकार की बेलननुमा मुँगेरियाँ रखी रहतीं जो आगे से कुछ पतली और पीछे से मोटी होतीं ।। लाख की चूड़ी का आकार देकर वह उन्हें मुँगेरियों पर चढ़ाकर गोल और चिकना बनाता और तब एक-एक कर पूरे हाथ की चूड़ियाँ बना चुकने के पश्चात वह उन पर रंग करता ।।

mpboardinfo.in

बदलू यह कार्य सदा ही एक मचिये पर बैठकर किया करता था जो बहुत ही पुरानी थी ।। बगल में ही उसका हुक्का रखा रहता जिसे वह बीच-बीच में पीता रहता ।। गाँव में मेरा दोपहर का समय अधिकतर बदलू के पास बीतता ।। वह मुझे ‘लला’ कहा करता और मेरे पहुँचते ही मेरे लिए तुरंत एक मचिया मँगा देता ।। मैं घंटों बैठे-बैठे उसे इस प्रकार चूड़ियाँ बनाते देखता रहता ।। लगभग रोज ही वह चार-छह जोड़े चूड़ियाँ बनाता ।। पूरा जोड़ा बना लेने पर वह उसे बेलन पर चढ़ाकर कुछ क्षण चुपचाप देखता रहता मानो वह बेलन न होकर किसी नव-वधू की कंलाई हो ।।

NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियां


बदलू मनिहार था ।। चूड़ियाँ बनाना उसका पैतृक पेशा था और वास्तव में वह बहुत ही सुंदर चूड़ियाँ बनाता था ।। उसकी बनाई हुई चूड़ियों की खपत भी बहुत थी ।। उस गाँव में तो सभी स्त्रियाँ उसकी बनाई हुई चूड़ियाँ पहनती ही थीं आस-पास के गाँवों के लोग भी उससे चूड़ियाँ ले जाते थे ।। परंतु वह कभी भी चूड़ियों को पैसों से बेचता न था ।। उसका अभी तक वस्तु-विनिमय का तरीका था और लोग अनाज के बदले उससे चूड़ियाँ ले जाते थे ।। बदलू स्वभाव से बहुत सीधा था ।। मैंने कभी भी उसे किसी से झगड़ते नहीं देखा ।। हाँ, शादी-विवाह के अवसरों पर वह अवश्य जिद पकड़ जाता था ।। जीवन भर चाहे कोई उससे मुफ़्त चूड़ियाँ ले जाए परंतु विवाह के अवसर पर वह सारी कसर निकाल लेता था ।। आखिर सुहाग के जोड़े का महत्त्व ही और होता है ।। मुझे याद है, मेरे मामा के यहाँ किसी लड़की के विवाह पर जरा-सी किसी बात पर बिगड़ गया था और फिर उसको मनाने में लोहे लग गए थे ।। विवाह में इसी जोड़े का मूल्य इतना बढ़ जाता था कि उसके लिए उसकी घरवाली को सारे वस्त्र मिलते, ढेरों अनाज मिलता, उसको अपने लिए पगड़ी मिलती और रुपये जो मिलते सो अलग ।।


यदि संसार में बदलू को किसी बात से चिढ़ थी तो वह थी काँच की चूड़ियों से ।। यदि किसी भी स्त्री के हाथों में उसे काँच की चूड़ियाँ दिख जातीं तो वह अंदर-ही-अंदर कुढ़ उठता और कभी-कभी तो दो-चार बातें भी सुना देता ।। मुझसे तो वह घंटों बातें किया करता ।। कभी मेरी पढ़ाई के बारे में पूछता, कभी मेरे घर के बारे में और कभी यों ही शहर के जीवन के बारे में ।। मैं उससे कहता कि शहर में सब काँच की चूड़ियाँ पहनते हैं तो वह उत्तर देता, “ शहर की बात और है, लला! वहाँ तो सभी कुछ होता है ।। वहाँ तो औरतें अपने मरद का हाथ पकड़कर सड़कों पर घूमती भी हैं और फिर उनकी कलाइयाँ नाजुक होती हैं न! लाख की चूड़ियाँ पहनें तो मोच न आ जाए ।। ” कभी-कभी बदलू मेरी अच्छी खासी खातिर भी करता ।। जिन दिनों उसकी गाड़ के दूध होता वह सदा मेरे लिए मलाई बचाकर रखता और आम की फसल में तो मैं रोज ही उसके यहाँ से दो-चार आम खा आता परंतु इन सब बातों के अतिरिक्त जिस कारण वह मुझे अच्छा लगता वह यह था कि लगभग रोज़ ही वह मेरे लिए एक-दो गोलियाँ बना देता ।। mpboardinfo.in

मैं बहुधा हर गर्मी की छुट्टी में अपने मामा के यहाँ चला जाता और एक-आध महीने वहाँ रहकर स्कूल खुलने के समय तक वापस आ जाता ।। परंतु दो-तीन बार ही मैं अपने मामा के यहाँ गया होऊँगा तभी मेरे पिता की एक दूर के शहर में बदली हो गई और एक लंबी अवधि तक मैं अपने मामा के गाँव न जा सका ।। तब लगभग आठ-दस वर्षों के बाद जब मैं वहाँ गया तो इतना बड़ा हो चुका था कि लाख की गोलियों में मेरी रुचि नहीं रह गई थी ।। अतः गाँव में होते हुए भी कई दिनों तक मुझे बदलू का ध्यान न आया ।mpboardinfo.in। इस बीच मैंने देखा कि गाँव में लगभग सभी स्त्रियाँ काँच की चूड़ियाँ पहने हैं ।। विरले ही हाथों में मैंने लाख की चूड़ियाँ देखी तब एक दिन सहसा मुझे बदलू का ध्यान हो आया ।। बात यह हुई कि बरसात में मेरे मामा की छोटी लड़कों आँगन में फिसलकर गिर पड़ी और उसके हाथ की काँच की चूड़ी टूटकर उसकी कलाई में घुस गई और उससे खून बहने लगा ।। मेरे मामा उस समय घर पर न थे ।। मुझे ही उसकी मरहम पट्टी करनी पड़ी ।। तभी सहसा मुझे बदलू का ध्यान हो आया और मैंने सोचा कि उससे मिल आऊँ ।। अतः शाम को मैं घूमते-घूमते उसके घर चला गया बदलू वहीं चबूतरे पर नीम के नीचे एक खाट पर लेटा था ।।

नमस्ते बदलू काका! मैंने कहा ।।

नमस्ते भइया! उसने मेरी नमस्ते का उत्तर दिया और उठकर खाट पर बैठ गया ।। परंतु उसने मुझे पहचाना नहीं और देर तक मेरी ओर निहारता रहा ।।

मैं हूँ जनार्दन, काका! आपके पास से गोलियाँ बनवाकर ले जाता था ।। मैंने अपना परिचय दिया ।।

बदलू फिर भी चुप रहा ।। मानो वह अपने स्मृति पटल पर अतीत के चित्र उतार रहा हो और तब वह एकदम बोल पड़ा, आओ-आओ, लला बैठो ! बहुत दिन बाद गाँव आए ।। mpboardinfo.in

हाँ, इधर आना नहीं हो सका. काका! मैंने चारपाई पर बैठते हुए उत्तर दिया ।।
कुछ देर फिर शांति रही ।। मैंने इधर-इधर दृष्टि दौड़ाई ।। न तो मुझे उसकी मचिया ही नज़र आई. न ही भट्टी ।।

आजकल काम नहीं करते काका? मैंने पूछा ।।

नहीं लला, काम तो कई साल से बंद है ।। मेरी बनाई हुई चूड़ियाँ कोई पूछे त तो ।। गाँव-गाँव में काँच का प्रचार हो गया है ।। वह कुछ देर चुप रहा, फिर बोल्न, मशीन युग है न यह, लला! आजकल सब काम मशीन से होता है ।। खेत भी मशीन से जोते जाते हैं और फिर जो सुंदरता काँच की चूड़ियों में होती है, लाख में कहाँ संभव है?

लेकिन काँच बड़ा खतरनाक होता है ।। बड़ी जल्दी टूट जाता है ।। मैंने कहा ।। नाजुक तो फिर होता ही है लला! कहते-कहते उसे खाँसी आ गई और वह देर तक खाँसता रहा ।।

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi काव्यांजलि Chapter 5 स्वयंवर-कथा, विश्वामित्र और जनक की भेंट (केशवदास) free pdf

मुझे लगा उसे दमा है ।। अवस्था के साथ-साथ उसका शरीर ढल चुका था ।। उसके हाथों पर और माथे पर नसें उभर आई थी ।।

जाने कैसे उसने मेरी शंका भाँप ली और बोला, “दमा नहीं है मुझे फसली खाँसी है ।। यही महीने दो महीने से आ रही है ।। दस-पंद्रह दिन में ठीक हो जाएगी ।।
मैं चुप रहा ।। मुझे लगा उसके अंदर कोई बहुत बड़ी व्यथा छिपी है ।। मैं देर तक सोचता रहा कि इस मशीन युग ने कितने हाथ काट दिए हैं ।। कुछ देर फिर शांति रही जो मुझे अच्छी नहीं लगी ।।

आम की फसल अब कैसी है, काका? कुछ देर पश्चात मैंने बात का विषय बदलते हुए पूछा ।।

‘अच्छी है लला, बहुत अच्छी है, उसने लहककर उत्तर दिया और अंदर अपनी बेटी को आवाज़ दी, अरी रज्जो, लला के लिए आम तो ले I ।। फिर मेरी और मुखातिब होकर बोला, माफ़ करना लला, तुम्हें आम खिलाना भूल गया था ।। नहीं, नहीं काका आम तो इस साल बहुत खाए हैं ।। वाह वाह, बिना आम खिलाए कैसे जाने दूँगा तुमको ?
मैं चुप हो गया ।। मुझे वे दिन याद हो आए जब वह मेरे लिए मलाई बचाकर रखता था ।।

mpboardinfo.in

गाय तो अच्छी है न काका? मैंने पूछा ।। गाय कहाँ है, लला! दो साल हुए बेच दी ।। कहाँ से खिलाता ?

इतने में रज्जो उसकी बेटी, अंदर से एक डलिया में ढेर से आम ले आई ।। यह तो बहुत हैं काका! इतने कहाँ खा पाऊँगा? मैंने कहा ।।

वाह-वाह! वह हँस पड़ा, शहरी ठहरे न! मैं तुम्हारी उमर का था तो इसके चौगुने आम एक बखत में खा जाता था ।।

आप लोगों की बात और है ।। मैंने उत्तर दिया ।।

अच्छा, बेटी, लला को चार-पाँच आम छाँटकर दो ।। सिंदूरी वाले देना ।। देखो लला कैसे हैं? इसी साल यह पेड़ तैयार हुआ है ।।

रज्जो ने चार-पाँच आम अंजुली में लेकर मेरी ओर बढ़ा दिए ।। आम लेने के लिए मैंने हाथ बढ़ाया तो मेरी निगाह एक क्षण के लिए उसके हाथों पर ठिठक गई ।। गोरी-गोरी कलाइयों पर लाख की चूड़ियाँ बहुत ही फब रही थीं ।। mpboardinfo.in

बदलू ने मेरी दृष्टि देख लो और बोल पड़ा, यही आखिरी जोड़ा बनाया था जमींदार साहब की बेटी के विवाह पर दस आने पैसे मुझको दे रहे थे ।। मैंने जोड़ा नहीं दिया ।। कहा, शहर से ले आओ ।।

मैंने आम ले लिए और खाकर थोड़ी देर पश्चात चला आया ।। मुझे प्रसन्नता हुई बदलू ने हारकर भी हार नहीं मानी थी ।। उसका व्यक्तित्व काँच की चूड़ियों कि जैसा न था कि आसानी से टूट जाए ।। ।।

NCERT Solution for Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 लाख की चूड़ियाँ प्रश्न उत्तर

प्रश्न – 1 बचपन में लेखक अपने मामा के गाँव चाव से क्यों जाता था और बदलू को ‘बदलू मामा’ न कहकर ‘बदलू काका’ क्यों कहता था?

उत्तर- बचपन में लेखक अपने मामा के गाँव चाव से इसलिय जाता था क्योंकि वहाँ बदलू उसे लाख की गोलियाँ बनाकर देता था ।। जो उसे पसंद थी ।। लेखक उसे “बदलू मामा” न कहकर “बदलू काका” इसलिए कहता था क्योंकि गाँव के सभी बच्चें उसे “बदलू काका”कहते थे ।।

प्रश्न – 2 वस्तु-विनिमय क्या है? विनिमय की प्रचलित पद्धति क्या है? mpboardinfo.in

उत्तर – वस्तु विनियम एक पुरानी व्यापार पद्धति है ।। जिसमें वस्तु के बदले वस्तु दी जाती है ।। पुराने समय में वस्तु के बदले पैसे का लेनदेन नहीं होता था ।। आधुनिक व्यापार पद्धति में वस्तु के बदले धन का लेनदेन होता है ।।

प्रश्न – 3 ‘मशीनी युग ने कितने हाथ काट दिए हैं ।। ’-इस पंक्ति में लेखक ने किस व्यथा की ओर संकेत किया है?

उत्तर – मशीनीकरण के कारण हस्तशिल्प पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है ।। मशीनों के आ जाने से कई लोगों की आमदनी साधन न रहा ।। लोग बेरोज़गार हो गए हैं ।। बढ़ गई है ।। पैतृक व्यवसाय बंद हो गया है ।। ऊपर लिखी गई पंक्ति बदलू की दशा की ओर संकेत करती है ।। लाख की चूड़ियों का व्यवसाय बंद हो गया ।। इसका उसके जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ा है ।। उसकी आर्थिक स्थिति और स्वास्थ बिगड़ गया ।।

प्रश्न – 4 बदलू के मन में ऐसी कौन-सी व्यथा थी जो लेखक से छिपी न रह सकी ।। ।।

उत्तर – मशीनीकरण के आने तथा काँच की चूड़ियों के प्रचलन एवं गाँव में औरतों के काँच की चूड़ियों के पहनने के कारण बदलू का व्यवसाय बिल्कुल बंद हो गया था ।। उसकी आर्थिक स्थिति भी ख़राब हो गई थी ।। अपना पैतृक काम खो देने की व्यथा लेखक से छिपी नसकी ।।

प्रश्न – 5 मशीनी युग से बदलू के जीवन में क्या बदलाव आया?

उत्तर – मशीनी युग के कारण बदलू का सुखी जीवन दुख में बदल गया था ।। गाँव की सारी औरतें काँच की चूड़ियाँ पहनने लगी थी ।। बदलू की कला को अब कोई नहीं पूछता था ।। उसकी चूड़ियों की माँग अब नहीं रही थी ।। इसी कारण शादी-ब्याह से मिलने वाला अनाज, कपड़े तथा अन्य उपहार उसे नहीं मिलते थे ।। उसकी आर्थिक हालत बिगड़ गई जिससे उसके स्वास्थ पर भी बुरा असर पड़ा था ।।

HOME PAGE

Up board result kab aayega 2024 जानिए कब तक आएगा यूपी बोर्ड का रिजल्ट

संस्कृत अनुवाद कैसे करें – संस्कृत अनुवाद की सरलतम विधि – sanskrit anuvad ke niyam-1

Garun Puran Pdf In Hindi गरुण पुराण हिन्दी में

Bhagwat Geeta In Hindi Pdf सम्पूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता हिन्दी में

MP LOGO

Leave a Comment