Mp Board 7th Hindi Sugam Bharti Chapter 3 Solution

7th Hindi Sugam Bharti Solutions

Mp Board 7th Hindi Sugam Bharti Chapter 3 Solution

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1 (क) सही जोड़ी बनाओ

(क) सही जोड़ी बनाइए-

1- राजा (क) साहूकार

2- जन्मदिन (ख) न्यायप्रिय

3- भव्य (ग) उपहार

4- सेठ (घ) राजमहल

उत्तर – 1- (ग), 2- (घ), 3- (क), 4- (ख)

(ख) दिए गए शब्दों में से उपयुक्त शब्द चुनकर रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-
1- दीनू राजकुमार को उपहार देने हेतु – लेकर गया। (रोटी खिलौने)
2- दरबार में उपस्थित सभी लोग कर हंस पड़े । खिलखिला /ठिलठिला)
3- उपहार के लिए एक रोटी ही – है । (कम/ काफी)
4- दीनू घर से———लेकर चला। (उपहार / हार)

उत्तर: 1- रोटी 2- खिलखिला 3- काफी, 4- उपहार

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 2- निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक-एक वाक्य में लिखिए

(क) राजा का स्वभाव कैसा था ?

उत्तर: राजा दयालु और न्यायप्रिय था।

(ख) सेठ साहूकारों ने राजा के बेटे को उपहार देने हेतु सुंदर खिलौने किन किन धातुओं से बनवाए थे ?

उत्तर: सेठ साहूकारों ने सोने-चाँदी के सुंदर खिलौने गा सग जीनें नन्नाई।

(ग) उपहार के बहाने दीनू किनको देखना चाहता था ?
उत्तर: उपहार के बहाने दीनू राजकुमार और भव्य महल को देखना चाहता था।

(घ) टीनू को राजा ने कितनी जमीन दी ?
उत्तर: दीनू को राजा दस एकड़ जमीन दी

। (ङ) राज दरबार जाते समय दीनू ने रास्ते में किन-2 लोगों की सहायता की ?
उत्तर: दीनू ने रास्ते में भिखारी, कुत्तों और गाय को रोटी देकर मदद की।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 3- निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर तीन से पाँच वाक्यों में लिखिए

(क) जरूरतमंदों को सहायता न मिलने पर राजा क्या करता था ?
उत्तर: कभी-कभी उसे लगता कि मेरे कर्मचारी कामचोर हो रहे हैं या जरूरतमंद को सहायता नहीं पहुंचा रहे हैं तो खुद कोई न कोई मुक्ति भिड़ाकर रास्ता निकल लेता था।

(ख) दीनू राज दरबार में जाकर आश्चर्यचकित क्यों हो गया ?

उत्तर: राज दरबार में पहुँचकर वह हक्का-बक्का रह गया। वहाँ की भव्यता देखकर उसे अपने कपड़ों और अपनी रोटी पर शर्म आने लगी। बड़े-बड़े लोग सुंद उपहार लाए थे।

(ग) राजाज्ञा क्या थी ?

उत्तरः राजाज्ञा थी कि दस हजार स्वर्ण मुद्राएँ दीनू को दी जाती हैं, साथ ही जीवन भर के लिए इसका और रमके परिवार का भरण-पोषण भी गेजकोष मेटोगा। इसे राजाज्ञा समझा जाए। इसे दस एकड़ जमीन भी दी जाती है, जिस पर वह खेती करे और जरूरतमंद लोगों को रोटी दे ।

(घ) दीनू का उपहार सबसे अच्छा क्यों घोषित किया
उत्तरः राजा ने उसे कुर्सी पर बैठाया और सभी जनों के बीच ऐलान किया कि आज सबसे अच्छा उपहार दीनू लाया है। सोने-चाँदी की हमारे खजाने में भी कमी नहीं है। दीनू जो उपहार घर से लेकर चला था। उसमें से रास्ते में जिन-जिन भूखों की भूख इसने बुझाई है, उनकी दुआएँ भी वह राजकुमार के लिए लाया है, अतः दीनू का उपहार सबसे अच्छा घोषित किया गया। भाषा की बात

भाषा की बात

प्रश्न 4- नीचे दिए गए शब्दों का शुद्ध उच्चारण कीजिए जरूरतमंद, सर्वश्रेष्ठ, आशीर्वादों, वृत्तांत, स्वर्ण मुद्राएँ।
उत्तर: छात्र स्वयं करें।

प्रश्न 5- निम्नलिखित शब्दों की वर्तनी शुद्ध कीजिए ।

नमसकार, आर्शीवाद, आश्चर्य, हतपिरभ, उपधित, राजकोश । उत्तरः शुद्ध वर्तनी – नमस्कार, आशीर्वाद, हतप्रभ, उपस्थित, राजकोष ।
प्रश्न 6- निम्नलिखित गद्यांश को ध्यान से पढ़िए

“थोड़ी देर बाद वर्षा होने लगी। माँ ने प्रगति से कहा-शोरगुल मत करो, भाई को पढ़ने दो मैं तुम्हें खाने को अभी फल ला देती हूँ। फल खाकर उसने पानी पी लिया और मां से बोली- मैं बाहर जाना चाहती हूँ।” ऊपर रेखांकित शब्द क्रिया को प्रकट कर रहे हैं। एक वाक्य में दो क्रियाएँ आई हैं। बाद वाली क्रिया पूर्व क्रिया की सहायता कर रही है। ‘होना’ क्रिया वाक्य में ‘होने’ तथा ‘लगना’ क्रिया ‘लगी’ के रूप में आई है। इस प्रकार हम देखते हैं कि जहाँ वाक्य में दो क्रियाएँ इस प्रकार आती हैं जिसमें एक मुख्य तथा दूसरी उसकी सहायक होती है वहाँ ये क्रियाएँ संयुक्त क्रिया कहलाती हैं।

प्रश्न (क) निम्नलिखित में से संयुक्त क्रिया वाले वाक्य छाँट कर लिखिए तथा बताइए कि उनमें कौन-कौन सी संयुक्त क्रियाएँ आई हैं ?

उत्तर 1- तुम दूरदर्शन देखते होगे

2- शीला पढ़ती है

3- उसका नाम प्रदीप है।

4- वह दूध पी चुका होगा ।

5- अभी हंसने लगेगा।

प्रश्न (ख) संयुक्त क्रिया वाले चार वाक्य बनाकर लिखिए।

उत्तर –
1- कुछ देर के बाद आध्यापक पढ़ाने लगे। 2- पिताजी तुम्हें खाने को अभी आइसक्रीम ला देते हैं।

3- हम आपकी सेवा करना चाहते हैं।

4- राम को हसने दो।

प्रश्न 7- निम्नलिखित योजक चिह वाले शब्दों को बाक्यों में प्रयोग कीजिए कभी-कभी, बड़े-बड़े, सुंदर-सुंदर, चलते-चलते, दो-दो ।

उत्तर – योजक चिंह वाले शब्द

1- कभी-कभी पिताजी कभी-कभी बहुत याद आते हैं।

2- बड़े-बड़े = दक्षिण भारत में बड़े-बड़े मंदिर हैं।

3- सुंदर-सुंदर = उनके बड़े सुंदर-सुंदर बच्चे हैं

4- चलते-चलते अब हमारा ग्रूप चलते-चलते थक चुका है।

5- दो-दो = अब तुम दो-दो करके आ सकते

उपहार पाठ का परिचय

प्रस्तुत कहानी के माध्यम से कहानीकार ने दयालुता और न्यायप्रियता को उजागर किया है। राजा ने घोषणा में कहा कि राजकुमार के जन्मदिन पर श्रेष्ठतम उपहार लाने वाले को इनाम दिया जाएगा। गरीब दीनू भी कुछ रोटियां लेकर राजा से मिलने निकला। रास्ते में उसने कुछ भूखों और जरुरतमंदों को एक रोटी छोड़कर सारी रोटियां खिला दी। जब राजा ने उससे केवल एक रोटी लाने का कारण पूछा तो उसने सारा किस्सा कह सुनाया। राजा उसकी इमानदारी और नेकदिली पर प्रसन्न हुआ और उसे इनाम प्रदान किया।

उपहार संदर्भ-प्रसंग सहित व्याख्या

1- पूरे राज्य में —————- कौन पूछेगा ?”

शब्दार्थ- सर्वश्रेष्ठ =सबसे अच्छा।

संदर्भ- प्रस्तुत पंक्तियाँ हमारी पाठ्य-पुस्तक ‘सुगम भारती (हिंदी सामान्य) भाग-7 के पाठ-9 ‘उपहार’ कहानी से ली गई हैं। इसके रचयिता प्रेमकोमल बृदिया हैं।

प्रसंग- इसमें दीनू महल में जाने के लिए रोटियाँ बनवाता है।

व्याख्या- इनाम की घोषणा सुनते ही सभी लोग सुंदर-सुंदर खिलौने और कपड़े बनवाने लगे। सभी इनाम की होड़ में तरह-तरह के तोहफे तैयार करने लगे। इधर गरीब दीनू के पास रोटियों के

विशेष – गरीब दीनू भी उपहार में रोटियाँ लेकर गए।

2- राजा ने उसे…………………….आश्चर्यचकित थे।

शब्दार्थ- ऐलान= घोषणा, हतप्रभ =आश्चर्यचकित

संदर्भ- पूर्ववत् ।

प्रसंग-राजा ने दीनू को स्वर्ण मुद्राएँ इनाम में दी ।

व्याख्या- राजा ने दीनू की सदाचारी और पवित्र हृदय देख उसे कुर्सी पर बैठाते हुए घोषणा की कि सबसे श्रेष्ठ उपहार दीनू का है इसलिए उसे ईनाम में दस हजार स्वर्ण मुद्राएँ दी जाती हैं, साथ ही जीवन भर के लिए इसका और इसके परिवार का भरण- पोषण भी राजकोष से होगा। सभा में सभी हैरान थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top